Skip to main content

Posts

”कहीं रिश्ते हैं, इसलिए चुप हूं, कहीं चुप हूं, इसलिए रिश्ते हैं”

 ”कहीं रिश्ते हैं, इसलिए चुप हूं, कहीं चुप हूं, इसलिए रिश्ते हैं” Ansal brothers were sentenced to seven years imprisonment and fined Rs 2.5 crore each on the two for Tempering of evidence in Uphaar Cinema case
Recent posts

सहार ढूंढने से इंसान कमजोर हो जाता है

  सहार ढूंढने से इंसान कमजोर हो जाता है, अपनी ताकत के बल पर जीने वाले लोग हमेशा आगे बढ़ते हैं। General knowledge Quizzes

Learn to respect time if you want to be successful in your life

 सारा खेल समय का है,जिसने सही समय पर सही फैसला लेना सीख लिया, बस फिर दुनिया उसी के हिसाब से चलेगी। वकील साहब की शादी का कार्ड हुआ वायरल

The God of cricket 🏏 is the biggest example for us.

  इस दुनिया मे सबकुछ मिल सकता है,बस पाने की जिद होनी चाहिए।  The God of cricket 🏏 is the biggest example for us. यह बात सच है कि किस्मत भी बहादुरो का साथ देती है। सचिन पाजी की बहादुरी के किस्से तो बहुत है लेकिन 2003 के वर्ल्ड कप में पाकिस्तान के खिलाफ दुनिया के सबसे खतरनाक वसीम अकरम, वकार यूनुस और रावलपिंडी एक्सप्रेस शोएब अक्खतर जैसे तेज गेंदबाजों के सामने वो 98 रनो की अविस्मरणीय पारी भूलाऐ नही भूलती। उस समय स्थिति कुछ ऐसी ही थी जैसे कि कुरुक्षेत्र में हुए महाभारत युद्ध के समय पांडवों और कौरवों की अस्त्र-शस्त्र से सुसज्जित विशाल सेनाएं एक दूसरे के सम्मुख खडी हुई है। कौरवो की विशालकाय सेना में दुर्योधन, पितामह भीष्म, पांडवों और कौरवों के गुरू द्रोणाचार्य, अजर अमर द्रोण पुत्र अश्वत्थामा, कुल गुरू कृपाचार्य और कुण्डल कवच धारी और अर्जुन के समान महारथी कर्ण जैसे तमाम योद्धा मौजूद थे,जिनसे शायद देवता भी लडने का साहस ना कर पाते।  दुसरी तरफ पाण्डव सेना और उनके तमाम योद्धा पाण्डवों की जीत की एकमात्र उम्मीद महारथी अर्जुन की तरफ आस लगाए देख रही है। महारथी अर्जुन ने भगवान श्रीकृष्ण से गीता के माध

वकील साहब की शादी का कार्ड हुआ वायरल

  वकील साहब की शादी का कार्ड हुआ वायरल आजकल सोशल मीडिया पर वकील साहब की शादी का कार्ड चर्चा का विषय बना हुआ है।  वकील साहब ने शादी के कार्ड पर निमंत्रण पत्र की जगह शादी की सूचना शब्द का इस्तेमाल करते हुए आगे लिखा कि शादी करने का अधिकार भारतीय संविधान के अनुच्छेद 21 में दिए गए मौलिक अधिकार ( जीवन जीने का अधिकार ) का एक अंश है।  इसलिए अब समय आ गया है कि मैं 28 नवंबर 2021 को इस मौलिक अधिकार का इस्तेमाल करूं।  इसलिए मैं आपसे निवेदन करता हूं आप सभी अनुच्छेद 19 (1) (बी) (शांति से और बिना हथियारों के इकट्ठा होने का अधिकार) के तहत आप सभी उपस्थित हो और अपना आशीर्वाद प्रदान करे। The right to life is above the right to kill and the right to eat cow-beef can never be considered a fundamental right Allahabad High Court हिंदू विवाह अधिनियम, 1955 के तहत हमने आपसी सहमति से 28 नवंबर 2021 को शादी करने का फैसला किया है।  अत: आपसे अनुरोध है कि जोड़े को आशीर्वाद देने के लिए बुधवार, 1 दिसंबर, 2021 को विवाह समारोह में अपने परिवार के साथ व्यक्तिगत रूप से उपस्थित होने का कष्ट करें। निमंत्रण पत्र की आखिरी पं

इश्क का मांझी

पता नहीं तेरे इश्क में और कितनी ठोकरें खानी पड़ेगी लेकिन हम भी तेरे इश्क के पक्के मांझी हैं जब तक तोड़ेंगे नहीं तब तक छोड़ेंगे कामयाबी ना हाथों की लकीरों से मिलती है ना माथे के पसीने से मिलती है। कामयाबी तो सिर्फ दोनो के संगम से मिलती है

मनुष्य परायो से मिला सम्मान और अपनो से मिला अपमान कभी नही भूलता। 

  Man never forgets the respect he got from others and the humiliation he got from his loved ones.   Mohit Bhati मनुष्य परायो से मिला सम्मान और अपनो से मिला अपमान कभी नही भूलता।  The right to life is above the right to kill and the right to eat cow-beef can never be considered a fundamental right Allahabad High Court